LU के कुलपति का रिपोर्ट कार्ड: कर्मयोगी योजना से छात्रों को कैंपस में मिलेगा आंशिक रोजगार; कुलपति ने कहा- PM मोदी के मंशा के अनुरूप हो रहा कौशल केंद्रों का विकास

42


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लखनऊएक महीने पहले

  • कॉपी लिंक

नए साल की पूर्व संध्या पर अपना रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुए लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो आलोक राय अपने सहयेागी अधिकारियों के साथ।

  • विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो आलोक राय ने कहा कि एक वर्ष के अंदर विश्वविद्यालय में कई ऐसे काम किए गए जो दशकों से बंद पड़े थे

लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति आलोक राय ने नए साल की पूर्व संध्या पर मीडिया से संवाद करते हुए अपना रिपोर्ट कार्ड पेश किया। इस मौके पर उन्होंने छात्रों के हितों की बात करते हुए कहा कि वह उनकी कोशिश है कि विश्वविद्यालय में अध्ययनरत सीनियर छात्र अपने जूनियर की मेंटरशिप करने का प्रयास करेंगे। उन्हें विश्वविद्यालय के तौर तरीके समझने ने उनकी सहायता करें ताकि उन्हें भविष्य में इसकी मदद मिलेगी। कुलपति ने साथ ही छात्र केंद्रित और छात्र हितैषी योजना “कर्मयोगी योजना” का भी प्रो राय ने लॉन्च किया, जिसके अंतर्गत विश्वविद्यालय के छात्रों को कैंपस में आंशिक समय की नौकरियों के लिए मौका दिया जाएगा।

उन्होंने कहा पत्रकारों से बातचीत के दौरान कहा कि पीएम मोदी ने ऑनलाइन उत्सव में भाग लिया और उनके मार्गदर्शन के अनुसार विश्वविद्यालय ने कौशल केंद्रों के विकास के कार्यक्रम संबंधी समितियों क गठन करने का काम शुरू कर दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि लखनऊ विश्वविद्यालय अपने शहर के जैव विविधता सूचकांक की गणना करने वाला पहला विश्वविद्यालय है।

अब तक 6 बार बुलाई गई कार्यकारी परिषद की बैठक

उन्होंने कहा कि कुल छह कार्यकारी परिषद की बैठक 20 मार्च 2020 से आज तक बुलाई गई है और इनमें से तीन बैठकों में विश्वविद्यालय के कामकाज के लिए परिषद के सदस्यों द्वारा सराहना हुई है। प्रो राय ने यह भी कहा कि उत्तर प्रदेश के राज्यपाल आनंदीबेन पटेल द्वारा 1 अप्रैल 2020 को शुरू की गई वेबसाइट में अब सभी दस्तावेज वेबसाइट पर रखे गए हैं और इस वजह से इस नए सुसज्जित वेबसाइट पर अब तक 2.5 करोड़ हिट्स में दर्ज हो चुके हैं।

सभी विभागों को टि्वटर अकाउंट बनाने के लिए प्रोत्साहित किया
प्रो राय ने कहा कि विश्वविद्यालय ने संचार के सभी संभावित तरीकों का इस्तेमाल किया है और अपने ट्विटर अकाउंट बनाने के लिए विभागों, संस्थानों और केंद्रों को प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि उन्होंने निर्णय लेने में विभागों को सशक्त बनाया है, साथ ही, उन्होंने कहा कि आने वाले वर्ष में स्नातकोत्तर और पीएच.डी. प्रवेश भी विभाग स्तर पर आयोजित किए जाएंगे। इसके अलावा उन्होंने कहा कि प्रायोजित पदक और डिग्री वितरण भी विभाग स्तर पर निष्पादित किए जाएंगे।

नई शिक्षा नीति के तहत लखनऊ विश्वविद्यालय देश में पहले पायदान पर

प्रो राय ने तब कहा कि इस शैक्षणिक सत्र के दौरान प्रवेश फॉर्मों की बिक्री में तेजी देखी गई है और साथ ही विश्वविद्यालय ने तीन नए शहरों में अपने अधिकार क्षेत्र का विस्तार किया है। उन्होंने कहा कि नवगठित “नई शिक्षा नीति 2020” के अनुसार, विश्वविद्यालय न केवल उत्तर प्रदेश में, बल्कि देश में पहले स्थान पर है, जिसने क्रेडिट ट्रांसफर स्कीम और पीएचडी, अध्यादेश जो अंशकालिक पीएचडी, एकीकृत पीएच.डी. योजनाएं आदि। उन्होंने यह भी कहा कि इस वर्ष नई डीलिट अध्यादेश भी पारित किया गया था जिसमें पिछले दस वर्षों से कोई प्रवेश नहीं हो रहा था।

कई विभागों में सीटें बढ़ाई गईं

प्रो राय ने बताया कि LLB पंचवर्षीय कार्यक्रम में और B.Com में 120 से बढ़ाकर 180 कर दी गई थी और बीटेक (कंप्यूटर साइंस) में सीटें 90 से बढ़ाकर 180 कर दी गई हैं। उन्होंने यह भी बताया कि इस वर्ष में “योग और वैकल्पिक चिकित्सा” का एक नया संकाय बनाया गया है जिसमें दो विभाग 1) योग विभाग और 2) प्राकृतिक चिकित्सा विभाग बनाया गया है। इन दोनों विभागों में यूजी, पीजी और डिप्लोमा पाठ्यक्रम चलाए जाएंगे।

प्रो राय ने यह भी बताया कि उद्यमिता प्रकोष्ठ, परामर्श और मार्गदर्शन प्रकोष्ठों की स्थापना की गई है जो छात्रों की मानसिक स्थिति का ध्यान रखेंगे। उन्होंने सभी छात्रावासों में छात्रावासों के नवीनीकरण और रखरखाव, ओपन एयर जिम्नेजियम की स्थापना और टेबल टेनिस कोर्ट के बारे में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान विश्वविद्यालय ने एक ऑर्गेनिक फार्म की स्थापना की थी जिसमें आवारा पत्तियों को कृमि-खाद विधि द्वारा खाद में बदल दिया गया था।

कर्मयोगी योजना के तहत मिलेगी यह सुविधाएं

  • मूल्यवान मानव संसाधन के रूप में छात्रों की क्षमता का उपयोग
  • शिक्षा के साथ अर्जन
  • •विश्वविद्यालय की गतिविधियों में छात्रों को शामिल करना
  • छात्रों को उनके वास्तविक रोजगार प्राप्त करने से पहले काम का अनुभव प्रदान करना
  • छात्रों को श्रम की गरिमा सिखाना
  • छात्रों की युवा ऊर्जा को सकारात्मक दिशा में ले जाना
  • नियत कार्य करने के लिए छात्र को रु 150 / का भुगतान किया जाएगा। एक शैक्षणिक सत्र में 50 दिनों की सीमा के अधीन घंटे और अधिकतम 2 घंटे काम करने की अनुमति होगी। कर्मयोगी योजना के तहत एक छात्र को दी जाने वाली अधिकतम राशि रु. 15,000 / होगी।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here