JEE मेन 2021: रजिस्ट्रेशन के दौरान पहली बार जाति संबंधित सर्टिफिकेट मांगे जाने पर परेशान हुए कैंडिडेट्स, NTA ने नोटिफिकेशन जारी कर बताया समाधान

26


  • Hindi News
  • Career
  • During The Registration, The Candidates Were Upset When The Caste related Certificate Was Asked For The First Time, The NTA Issued A Notification To Solve The Problem

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

3 दिन पहले

  • कॉपी लिंक

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने JEE मेन 2021 में शामिल होने वाले कैंडिडेट्स से पहली बार रजिस्ट्रेशन समय जाति प्रमाण-पत्र मांगा जा रहा है। यह पहली बार है जब एजेंसी कैंडिडेट्स से जाति प्रमाण-पत्र मांगा है। इसकी वजह से ओबीसी कैटेगरी के स्टूडेंट्स को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है। इससे पहले स्टूडेंट्स को सिर्फ कैटेगरी पर टिक लगाना होता था, लेकिन अब फॉर्म में भरते समय ही जाति संबंधित डॉक्यूमेंट्स अपलोड करने को कहा जा रहा है।

एजेंसी ने दिए सवालों के जवाब

एजेंसी की तरफ से अचानक शुरू किए गए इस नए नियम की वजह से स्टूडेंट्स काफी परेशान है। । हालांकि,नेशनल टेस्टिंग एजेंसी ने परीक्षा को लेकर जारी किए FAQs के मुताबिक कैटेगरी के कागजात उपलब्ध न होने पर कैंडिडेट्स को अंडरटेकिंग अपलोड करना होगा। एनटीए ने अंडरटेकिंग का प्रारूप वेबसाइट पर जारी कर दिया है। कैंडिडेट्स जारी फॉर्मेट को भरकर मई के आखिरी हफ्ते जमा कर सकते हैं।

चार सेशन के लिए एक फॉर्म

एजेंसी ने यह भी बताया कि कैंडिडेट JEE मेन 2021 के चारों सेशन में शामिल हो सकेंगे। हालांकि, सभी सेशन के लिए सिर्फ एक ही एप्लिकेशन फॉर्म भरना होगा। अगर वह अभी सभी सेशन के लिए फॉर्म भरता है, तो सिर्फ ही एक आवेदन पत्र होगा। अगर वह बाकी सेशन के लिए बाद में फॉर्म भरते का विकल्प चुनता है, तो अन्य सेशन (मार्च /अप्रैल) / मई) के लिए आवेदन शुरू होने पर इसी फॉर्म का इस्तेमाल किया जाएगा। इस साल से परीक्षा फरवरी से मई तक देश-विदेश के 331 शहरों में आयोजित की जाएगी।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here