175 करोड़ की मनी लॉन्डरिंग का मामला: रणबीर कपूर के कजिन अरमान जैन को ईडी का समन, मामा राजीव की मौत वाले दिन पड़ा था घर पर छापा

35


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

रणबीर कपूर की बुआ रीमा जैन के बेटे अरमान जैन कानूनी उलझन में फंस गए हैं। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने उन्हें टॉप्स ग्रुप से जुड़े मनी लॉन्डरिंग केस में समन भेजा है। जांच एजेंसी जैन के घर छापा भी मारा, जहां वे पत्नी अनीशा मल्होत्रा, मां रीमा जैन और अन्य सदस्यों के साथ रहते हैं। रिपोर्ट्स की मानें तो मामले में उनका नाम शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक के बेटे विहंग के साथ उनके संबंधों की वजह से आया, जिनके खिलाफ पहले से ही इस मामले में जांच चल रही है।

छापेमारी के दौरान आई थी मामा के निधन की खबर

जांच के दौरान ईडी को अरमान जैन और विहंग सरनाईक के बीच हुई संदिग्ध बातचीत के सबूत मिले थे। इसके बाद अरमान को समन भेजा गया और बाद में मंगलवार को उनके घर पर छापा मारा। हालांकि, इसी दौरान अरमान के मामा राजीव कपूर का निधन की खबर आई, जिसके बाद ईडी के अधिकारियों ने रीमा जैन को अपने भाई के घर जाने की इजाजत दे दी। छापे की कार्रवाई पूरी होने के बाद ईडी ने अरमान जैन को भी राजीव कपूर के अंतिम संस्कार में शामिल होने की अनुमति दे दी थी।

175 करोड़ रुपए का मनी लॉन्ड्रिंग घोटाला

पिछले साल मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा द्वारा टॉप्स ग्रुप के पूर्व कर्मचारियों की शिकायत पर कंपनी के प्रमोटर राहुल नंदा और दूसरे लोगों के खिलाफ FIR दर्ज की गई है। इसी FIR के आधार पर ED ने इंफोर्समेंट केस इंफर्मेशन रिपोर्ट (ECIR) दर्ज की।28 अक्टूबर 2020 को दर्ज हुई FIR के मुताबिक टॉप्स ग्रुप ने मुंबई मेट्रोपॉलिटन रीजन डेवलपमेंट अथॉरिटी (MMRDA) को 175 करोड़ रुपए का चूना लगाया है।

टॉप्स ग्रुप को MMRDA के ठिकानों पर सुरक्षा रक्षकों की नियुक्ति का ठेका मिला था। आरोप है कि नंदा के पुराने दोस्त सरनाईक ने उन्हें यह ठेका दिलाने में मदद की थी। यह भी शक है कि सरनाईक की कंपनियों ने टॉप्स ग्रुप के जरिए पैसे विदेश भेजे हैं। UK में किए गए निवेश और मॉरीशस में स्थित ट्रस्ट के चलते भी नंदा संदेह के घेरे में हैं, लेकिन वे किसी भी तरह की गड़बड़ी से इनकार कर चुके हैं।

सरनाईक और उनके बेटों से हो चुकी पूछताछ

ईडी ने 24 नवंबर को 10 स्थानों पर छापे मारे थे, जिसमें मुंबई और ठाणे में सरनाईक, उनके करीबियों के घर और कार्यालय शामिल थे। जांच एजेंसी को टॉप्स ग्रुप और प्रताप के बीच कई संदेहास्पद लेनदेन के सबूत मिले थे। इसके बाद सरनाईक से करीब 5 घंटे की पूछताछ हो चुकी है। उनके बेटे पुर्वेश और विहंग को पूछताछ के लिए बुलाया जा चुका है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here