भोपाल में किसान का चक्का जाम: पुलिस के दबाव बनाने की रणनीति काम आई; सभी प्रमुख नेता शहर के बाहर खातेगांव पहुंचे, राजधानी में प्रदर्शन की उम्मीद कम

38


  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Kisan Andolan Madhya Pradesh Update; Bhopal Police Alert After Farmers Call Bharat Bandh Chakka Jam On 06 Feb 2021

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

भोपाल2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

भोपाल की करोंद कृषि उपज मंडी के सामने 14 दिन पहले किसान नेताओं को देर रात पुलिस ने जबरन हटा दिया था। – फाइल फोटो

  • संगठनों का एकजुट नहीं होना भी राजधानी में प्रदर्शन नहीं किए जाने का कारण बना
  • हालांकि कुछ लोग बैरसिया इलाके में चक्का जाम करने की योजना बना रहे

कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान आज देश भर में चक्का जाम करने जा रहे हैं। मध्य प्रदेश के कई इलाकों में भी इसका असर देखने को मिल रहा है, लेकिन राजधानी भोपाल में पुलिस की दबाव बनाने की रणनीति कामयाब होती दिख रही है, क्योंकि अब तक यहां पर कोई भी संगठन खुलकर चक्का जाम करने की बात लेकर सामने नहीं आया है।

किसान नेताओं का भी कहना है कि सभी प्रमुख और बड़े किसान नेता शहर से बाहर हैं। वे खातेगांव में महापंचायत कर रहे हैं। ऐसे में राजधानी में प्रदर्शन का नेतृत्व करने के लिए कोई बड़ा नेता नहीं है। इसलिए यहां पर चक्का जाम या बड़ा प्रदर्शन किए जाने की संभावना काफी कम है। हालांकि कुछ लोग चक्का जाम किए जाने के पक्ष में है और वह इसको लेकर रणनीति भी बना रहे हैं, लेकिन अंतिम निर्णय बड़े नेताओं के संदेश आने के बाद लिए जाने की बात सामने आई है।

अखिल भारतीय क्रांतिकारी किसान सभा मध्य प्रदेश के संयोजक विजय कुमार ने बताया कि फिलहाल भोपाल में चक्का जाम किए जाने की संभावना कम है। हम ऊपर से मैसेज आने का इंतजार रहे हैं। हालांकि ग्वालियर, इंदौर, दतिया, डबरा, सागर, रीवा और होशंगाबाद समेत कई शहरों में चक्का जाम किया जाएगा।

खातेगांव में इसके लिए महापंचायत भी रखी गई है, जिसमें सभी बड़े नेता और खासकर मेधा पाटकर भी शामिल हो रही हैं। जहां तक भोपाल की बात है तो पिछले 3 प्रदर्शन के दौरान पुलिस ने बलपूर्वक आंदोलन को खत्म किया। मंडी में जब अंतिम बार प्रदर्शन के लिए बैठे थे तो पुलिस ने रात को जबरन उठा दिया था।

इसके बाद टैक्टर रैली भी सांकेतिक हो पाई थी। पुलिस और प्रशासन काफी दबाव बना रही है हमारे आंदोलन को खत्म करने के लिए। हालांकि बड़े नेताओं के खातेगांव में होने के कारण यहां अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया।

पहले यह थी रणनीति

शहर की सीमाओं में खजूरी सड़क, बैरसिया थाना, सुखी सेवनिया और मिसरोद थाना क्षेत्र आते हैं। पुलिस इन चारों थाना क्षेत्रों पर खासतौर से नजर रख रही है। कुछ नेताओं ने शनिवार को चक्का जाम को देखते हुए बैरसिया के लामा खेड़ा से इसकी शुरुआत करने की योजना बनाई थी। जिसमें चक्का जाम का प्लान था। हालांकि योजना यह भी थी कि अगर पुलिस उन्हें जबरन हटाती है, तो फिर धरना भी दिया जाएगा। हालांकि फिलहाल राजधानी में इस तरह की कोई स्थिति बनती नजर नहीं आ रही है।

पुलिस को किसी ने सूचना नहीं दी

एएसपी ट्रैफिक संदीप दीक्षित ने बताया कि अब तक चक्का जाम किए जाने की किसी तरह की कोई सूचना नहीं है। भोपाल में आम दिनों की तरह ट्रैफिक के सामान्य पॉइंट लगाए गए हैं। अगर कोई लॉ एंड ऑर्डर की समस्या आती है, तो डीआईजी के निर्देश के अनुसार ही ट्रैफिक के पॉइंट बदले जाएंगे। इधर पुलिस अधिकारियों का कहना है कि अब तक किसी भी किसान नेता या संगठन ने चक्का जाम किए जाने या करने की कोई भी पूर्व सूचना नहीं दी है और ना ही अनुमति ली है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here