भारत के वॉरेन बफे बुरे फंसे: राकेश झुनझुनवाला सेबी के साथ करेंगे सेटलमेंट, अप्टेक के शेयरों में इनसाइडर ट्रेडिंग का मामला

46


  • Hindi News
  • Business
  • Rakesh Jhunjhunwala Aptech Insider Trading Case; Updats From Market Regulator SEBI

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मुंबई5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • राकेश झुनझुनवाला ने कॉलेज के दिनों से शेयर बाजार में निवेश की शुरुआत की थी
  • सेबी ने कुछ समय पहले ही झुनझुनवाला को कारण बताओ नोटिस जारी किया था

शेयर बाजार के दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला सेबी के साथ सेटलमेंट करने की तैयारी कर रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि अप्टेक के शेयरों में इनसाइडर ट्रेडिंग का आरोप उन पर है। माना जा रहा है कि अगले कुछ दिन में इस पर सेबी ऑर्डर जारी कर सकता है।

2016 में शेयरों में कारोबार का है मामला

राकेश झुनझुनवाला पर मई से अक्टूबर 2016 के बीच अप्टेक शेयरों में इनसाइडर ट्रेडिंग का आरोप है। सेबी इसी मामले की जांच कर रहा है। अप्टेक में झुनझुनवाला और उनके परिवार की 49% हिस्सेदारी है। उनके सैकड़ों शेयरों के पोर्टफोलियो में यही एक मात्र कंपनी है जिसमें उनकी मालिकाना हिस्सेदारी है। उन्होंने इस कंपनी में पहली बार 2005 में 56 रुपए के भाव पर शेयर खरीदे थे। शुक्रवार को यह शेयर 216 रुपए के भाव पर बंद हुआ था। इस समय उनक एप्टेक के शेयरों की वैल्यू 421 करोड़ रुपए है।

गुप्त सूचनाओं के आधार पर कारोबार को इनसाइडर ट्रेडिंग कहते हैं

इनसाइडर ट्रेडिंग का मतलब कंपनी से जुड़ी गुप्त सूचनाओं के आधार पर शेयर की खरीदी या बिक्री करना है। उस कंपनी में आपकी हिस्सेदारी है या फिर उस कंपनी से आप जुडे हैं। आपको वह जानकारी है जिसके आधार पर आप शेयर की खरीदी या बिक्री नहीं कर सकते हैं। शेयर बाजार का रेगुलेटर सेबी है। राकेश झुनझुनवाला को भारत का वॉरेन बफे कहा जाता है। वे बाजार के सबसे बड़े निवेशक हैं।

झुनझुन वाला सेटलमेंट के लिए मंजूर हैं

जानकारी के मुताबिक, झुनझुनवाला इस मामले में सेबी के साथ सेटलमेंट करने पर मंजूर हो गए हैं। उनके अलावा इस मामले में और जो आरोपी हैं उनमें अप्टेक के बोर्ड सदस्य उत्पल शेठ, रमेश दमानी और मधु जयकुमार हैं। शेठ झुनझुनवाला की कंपनी रेयर में मुख्य वित्तीय अधिकारी हैं। झुनझुनवाला इससे पहले भी जियोमैट्रिक नाम की कंपनी के मामले में सेटलमेंट कर चुके हैं।

कंसेंट अप्लीकेशन फाइल किया है

सूत्रों के मुताबिक झुनझुनवाला ने कोर्ट के बाहर सेटलमेंट की योजना बनाई है। इसके लिए उन्होंने कंसेंट अप्लीकेशन फाइल किया है। कंसेंट अप्लीकेशन यानी रेगुलेटर के साथ सेटलमेंट करना है। इस मामले में सेबी ने कुछ समय पहले ही राकेझ झुनझुनवाला को कारण बताओ नोटिस जारी किया था। इसी के बाद सेटलमेंट की बात बनी है।

देश के सबसे बड़े व्यक्तिगत निवेशक हैं

फोर्ब्स की रिपोर्ट के अनुसार, झुनझुनवाला की नेटवर्थ 3.3 अरब डॉलर है। वे देश के सबसे बड़े व्यक्तिगत निवेशक हैं। उन्होंने इंगलिश विंग्लिश फिल्म को प्रोड्यूस भी किया था। झुनझुनवाला के पिता इनकम टैक्स विभाग के अधिकारी रहे हैं। उन्होंने कॉलेज के दिनों से शेयर बाजार में निवेश की शुरुआत की थी। जब बीएसई सेंसेक्स 1985 में 150 अंक पर था, तब वे निवेश की शुरुआत किए थे।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here