बजट पर विश्वास जगाने की कोशिश: UP सरकार के बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने कहा- धूल फांक रही थी स्वामीनाथन रिपोर्ट, PM मोदी ने MSP डेढ़गुना किया

33


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Basic Education Minister Of UP Government Satish Divedi Said The Swaminathan Report Was Blowing Dust, PM Modi Doubled MSP

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गोरखपुर5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

यूपी सरकार के बेसिक शिक्षा मंत्री ने शनिवार को गोरखपुर में प्रेस कांफ्रेंस कर केंद्र सरकार की ओर से पेश किए गए बजट की सराहना की। उन्होंने कहा कि सरकार पूरी तरह से किसानों के लिए काम कर रही है।

उत्तर प्रदेश सरकार के बेसिक शिक्षा मंत्री सतीश द्विवेदी ने शनिवार को गोरखपुर में नव निर्मित BSA कार्यालय का मंत्री ने उद्घाटन किया। इसके बाद उन्होंने हाल ही में केंद्र की ओर से पेश किए गए आम बजट की सराहना करते हुए इसे ऐतिहासिक करार दिया। कहा कि देश के गांव, गरीब, किसान के कल्याण वाला बजट है। प्रधानमंत्री के नेत़ृत्व में आत्मनिर्भर भारत का जो अभियान चल रहा है। उस अभियान को पूरा करने वाला और वोकल फार लोकल की थीम पर आधारित बजट है।

द्विवेदी ने कहा कि स्वास्थ्य, शिक्षा और इंफ्रास्टेक्चर के क्षेत्र में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को बढ़ावा दिया गया है, पहली बार देश के किसी भी बजट में चिकित्सा और स्वास्थ्य के क्षेत्र को प्राथमिका दी गई है उस का बजट बढ़ा करके 92 हजार करोड़ से 2.32 लाख करोड़ किया गया है।

नए कृषि कानूनों से बिचौलिए समाप्त होंगे

मंत्री ने तीन नए कृषि कोनून पर बोलते हुए कहा की तीन नए कृषि कानून के माध्यम से किसान और उस के उचित मूल्य के बीच की सारी बाधाओं को खत्म करते हुए सारे बिचौलियों को खत्म करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों की आमदनी बढ़ाने का मार्ग प्रशस्त किया है।

कई सरकारें आईं लेकिन स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू नहीं हुई

कहा कि बार-बार कहा गया है की न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद पहले थी, आज है और कल भी रहेगी बल्कि समर्थन मूल्य को कृषि उत्पादन के लागत से डेढ़ गुना सुनिश्चित किया गया है। स्वामीनाथन कमीशन की रिपोर्ट आजादी के बाद से धूल फांक रही थी, कांग्रेस और उन्य दलों की सरकारें आई गई, लेकिन हमारी मोदी सरकार ने एमएसपी लागत की डेढ़ गुना की।

कहा कि 2013-14 में सरकार गेहूं की खरीद पर 33 हजार करोड़ खर्च करती थी। 2019 में सरकार ने 63 हजार करोड़ का गेहूं खरीदा, इस बार बढ़ कर 75 हजार करोड़ रुपए हो गई है। 2020-21 में 43 लाख किसानों को उस का फायदा मिला। 2013-14 में धान की खरीद 63 हजार करोड़ थी इस बार बढ़ कर 1.45 लाख करोड़ हो गई, 1.2 करोड़ किसानों को इस का फायदा मिला।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here