फीचर आर्टिकल: प्रतिभाशाली होना आपको दिला सकता है करोड़ो के पुरस्कार, जानें कैसे ?

44





ज्ञान में निवेश सबसे अच्छा ब्याज देता है', बेंजामिन फ्रैंकलिन का यह उद्धरण स्पष्ट रूप से बताता है कि शिक्षा में हमारा दिमाग और समय का निवेश करना कितना महत्वपूर्ण है। आजकल, हमने जो सीखा है उस पर अमल करने का चलन है और जो हम सीख सकते हैं उससे ज्यादा हासिल कर सकते हैं। प्रोफेशनल दुनिया एक प्रतिस्पर्धी युद्धक्षेत्र है जहाँ एकमात्र हथियार जो आपको जीत दिला सकता है, वह है आपका ज्ञान। कक्षा 10वीं के बाद के परिदृश्य का प्रत्येक चरण विद्यार्थियों के लिए एक परीक्षा है, जो उन्हें स्थायी जीवन पाठ पढ़ाता है। हालांकि, एक परीक्षा ऐसी भी है जो ज्ञान देने के साथ-साथ आपको लाखों और करोड़ों रुपयों के पुरस्कार जीता सकती है। यक़ीन नहीं होता ? मगर ये सच है |

उस जीवन बदलने वाली परीक्षा का नाम 'जीनियस 2021' है, जो मध्य भारत के सबसे तेजी से बढ़ते शिक्षा समूह,सैम ग्लोबल यूनिवर्सिटी विद नॉलेज पार्टनर विज्ञान भारती द्वारा आयोजित किया जा रहा है।

जीनियस 2021 एक राष्ट्रीय-स्तर का ऑनलाइन टेस्ट है जिसे विद्यार्थियों में संदेह की दीवार के भीतर सीमित प्रतिभा को बाहर निकालने और पुरस्कृत करने के लिए आयोजित किया गया है। परीक्षण के लिए लक्षित समूह वर्तमान में कक्षा 11वीं और 12वीं में पढ़ने वाले विद्यार्थी होंगे। हम जानते हैं कि 11वीं और 12वीं कक्षा जीवन पथ को निर्देशित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं, जो करियर को मंज़िल की ओर ले जाता है। जीनियस 2021 के माध्यम से, इन कक्षाओं के सभी स्ट्रीम्स के विद्यार्थियों को ज्ञान प्राप्त करने, उनमें प्रतिभा को पहचानने और अपने सपनों को साकार करने का मौका मिलेगा।

अकादमिक और शैक्षिक अनिश्चितताओं के युग में, जीनियस 2021 एक अप्रत्याशित अवसर है जो एक शानदार करियर के लिए एक परिष्कृत नींव को तैयार करने में मदद करेगा। इसके अलावा, कभी-कभी एक पहलू जो हमारे सपनों का पीछा करने में बाधा बन जाता है, वह है धन सम्बंधित पहलू। इस प्रकार, जीनियस 2021 के तहत आपको रु1 करोड़ तक की छात्रवृत्ति दी जाएगी और श्रेणी 1 यानि कक्षा 12वीं के विद्यार्थियों के लिए प्रथम पुरस्कार रु1 लाख;रु 50,000 का दूसरा पुरस्कार और तीसरा पुरस्कार रु 25,000 । श्रेणी 2 यानि कक्षा 11वीं के लिए प्रथम पुरस्कार रु 11,000 रुपये; दूसरा पुरस्कार रु 7000 और रु 5000 का तीसरा पुरस्कार। इसके साथ ही रु 50 लाख तक के नकद पुरस्कार भी दिए जायेंगे | जीनियस 2021 जिन विषयों पर केंद्रित होगा वह हैं मानसिक क्षमता, मौखिक तर्क और सामान्य ज्ञान। जीनियस 2021 का आयोजन 15, 16 और 17 जनवरी, 2021 को किया जायेगा। टेस्ट के परिणाम के विषय में सभी विद्यार्थियों को एसएमएस के माध्यम से सूचित किया जायेगा।

जो पहलू जीनियस 2021 को विशेष बनाता है, वह है वो अद्वितीय संस्थान जो इसे आयोजित कर रही है। सैम ग्लोबल यूनिवर्सिटी, मध्य भारत के सबसे पुराने शैक्षिक समूहों में से एक होने के नाते, हमेशा वर्तमान और आने वाली पीढ़ियों की शैक्षिक यात्रा को सरल और लक्ष्य-केंद्रित बनाने के लिए जाना जाता है और जीनियस 2021 के साथ हम यह सुनिश्चित कर रहे हैं। इसके अलावा, हम इसे 11वीं और 12वीं कक्षाओं की सभी स्ट्रीम्स के लिए खुला रख रहे हैं और इस प्रकार यह सभी के लिए फायदेमंद है। सैम में हम गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को सभी तक पहुंचाने का प्रयास करते हैं और वित्तीय पहलू कभी भी किसी को कोई अवसर प्राप्त करने में बाधा ना बने, यही कारण है कि जीनियस 2021 के आवेदन करने के लिए 'कोई पंजीकरण शुल्क' नहीं है।

यदि आप एक प्रतिभाशाली व्यक्ति हैं, जीवन में एक योजना है और वित्तीय सहायता प्राप्त है तो ऐसा कुछ भी नहीं है जो आपको जीवन में अपने लक्ष्य को प्राप्त करने से रोक सके। यह टेस्ट उन मुख्य विषयों पर पकड़ प्राप्त करने में मदद करेगा, जिसके परिणामस्वरूप छात्रों को उनमें प्रतिभा का पता लगाने में मदद मिलेगी।आप जीनियस 2021 के लिए https://genius.samglobaluniversity.ac.in/#/ पर पंजीकरण कर सकते हैं | तथा अधिक जानकारी के लिए कॉल करें 8085140009, 9522104400 तो, जीनियस 2021 के साथ अपने अंदर के जीनियस को बाहर लाने के लिए तैयार रहें।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Being talented can give you millions of prizes, know how?



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here