पाकिस्तान की सियासत: मरियम नवाज बोलीं- जब PM बनने लायक नहीं थे इमरान तो शेरवानी पहनने की इतनी जल्दबाजी क्या थी

58


  • Hindi News
  • International
  • Imran Khan Maryam Nawaz| Imran Khan Slams By Maryam Nawaz Said Prime Minister Unprepared For PMs Job

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पेशावरएक महीने पहले

  • कॉपी लिंक

बुधवार को पेशावर के मरदान में विपक्षी दलों के गठबंधन की रैली के दौरान सेल्फी लेतीं मरियम नवाज।

पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज ने प्रधानमंत्री इमरान खान को उनके ही एक बयान पर घेर लिया। बुधवार रात पेशावर के मरदान शहर में एक रैली में मरियम ने प्रधानमंत्री पर तंज कसे। कहा- इमरान खुद कह रहे हैं कि वे पीएम बनने के लिए तैयार नहीं थे। अगर ऐसा था तो वे शेरवानी पहनकर तैयार क्यों हो गए। मुल्क को बर्बादी की कगार पर क्यों ला खड़ा किया।

विपक्षी दलों का गठबंधन पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (PDM) लाहौर की मेगा रैली के बाद अब इमरान सरकार के इस्तीफे की मांग को लेकर इस्लामाबाद तक मार्च निकालने की तैयारी कर रहा है। इससे सरकार पर दबाव बढ़ गया है।

अवाम की इज्जत करना सीखें इमरान मरदान की रैली में जब मरियम और दूसरे विपक्षी नेता पहुंचे तो यहां इतनी भीड़ थी कि कई लोगों ने सड़कों पर खड़े होकर भाषण सुना। भारी जनसमर्थन को देखते हुए मरियम का भी हौसला बढ़ा। उन्होंने कहा- सरकार यह भीड़ और यह समर्थन देखकर ही कुछ सीख ले। अब क्या बचा है? इमरान इस्तीफा दें और घर जाएं। अध्यादेशों से देश और सरकार नहीं चलती। अवाम का इज्जत करना सीखिए।

इमरान का बयान उनके लिए मुश्किल बना
इमरान ने मंगलवार को कहा था- अब ढाई साल हमें काम करके दिखाना होगा। सरकार में हम पहली बार आए थे। इसके लिए तैयार भी नहीं थे। मुझे खुद काम समझने में तीन महीने लग गए थे।
मरियम ने इमरान के इसी बयान को लेकर उन पर निशाना साधा। कहा- इमरान खुद मानते हैं कि वे पीएम बनने लायक नहीं थे। फिर क्यों वे अवाम के सिर पर बिठा दिए गए। देश चलाने के लिए स्किल्स चाहिए। इमरान को आखिर शेरवानी पहनने की इतनी जल्दी क्यों थी? हमने भी लंबे वक्त तक सरकार चलाई, देश चलाया। हमारे वक्त इतनी अफरातफरी नहीं होती थी। इस सरकार में तो म्युजिकल चेयर का खेल चल रहा है।

न बिजली और न गैस
मरियम ने देश में तेल और शकर की किल्लत पर सवाल उठाए। कहा- देश में क्या हालात हैं? इसका अंदाजा आप हम पर कर्ज और दूसरे सामानों की किल्लत से लगा सकते हैं। अरबों रुपए का नुकसान हुआ, लेकिन हम तक गैस नहीं पहुंच रही। पैसा कहां गया। आपने हर साल 10 लाख नौकरियों का वादा किया था। उसका क्या हुआ। अब तो जवाब दीजिए। नहीं तो जनता हिसाब कर ही लेगी।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here