धार्मिक शहर को मांस मदिरा से बचाने की मुहिम: पूर्व सांसद विनय कटियार ने कहा- अयोध्या के मंदिरों तक भेजी जा रही मांस मदिरा, इस पर लगे तत्काल प्रतिबंध

36


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अयोध्याएक मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

भाजपा के पूर्व सांसद विनय कटियार ने मांग की है कि अयोध्या में मांस और मदिरा की बिक्री पर तत्काल प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए।

भाजपा के पूर्व सांसद व बजरंग दल संस्थापक अध्यक्ष विनय कटियार ने कहा है कि उत्तर प्रदेश के अयोध्या में 14 कोसी परिक्रमा इलाके में मांस मदिरा की बिक्री पर तत्काल रोक लगनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण हो रहा है, ऐसे में अब मांस मदिरा की बिक्री 14 कोसी परिक्रमा क्षेत्र से करीब एक किमी दूर तक प्रतिबंधित होनी चाहिए इसके लिए वे कमिश्नर वह डीएम से वार्ता करेंगे।

कटियार का कहना है कि अब तो जिस तरह से महंत हो रहे हैं मंदिर के अंदर तक ऐसी चीजें पहुंच रही हैं। इसकी जांच होनी चाहिए जो अयोध्या की वैष्णव संस्कृति को चौपट करने में लगे हैं।

संत करें डीएम कमिश्नर का घेराव

अयोध्या में मांस मदिरा की बिक्री पर रोक लगाने की मांग को लेकर अनशन करने वाले तपस्वी आश्रम के महंत परमहंस दास का समर्थन करते हुए कटियार ने कहा कि वे भी इसके लिए कई बार प्रशासन से कह चुके हैं। अब पुनः प्रतिबंध लगाने को लेकर वात करेंगे। संतों से मेरी अपील है कि वे जब इस पर एक्शन न हो तो डीएम कमिश्नर कें बंगलों पर ही उनका घेराव शुरू करें जबतक मास मदिरा की यहां न बिक्री पर प्रतिबंध का आदेश न जारी हो जाए।

अयोध्या के प्रवेश द्वार पर मांस मंदिर की दुकाने ठीक नहीं

परमहंस दास का कहना है कि अयोध्या के प्रवेश द्वार महोबरा चौराहे पर ही शराब और मांस की दुकानें चल रही है। जिस पर प्रतिबंध लगाने के लिए उन्होंने देश के राष्ट्रपति तक से पत्राचार किया था। राष्ट्रपति की तरफ से उनको आश्वासन भी दिया गया था कि अयोध्या की सांस्कृतिक सीमा के अंदर शराब और मांस की दुकानें हटा दी जाएंगी।

उन्होनें बताया कि शराब और मांस की दुकानों को हटाए जाने की मांग को लेकर एक सप्ताह तक अनशन भी किया । जिसके बाद अयोध्या नगर निगम के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय के आश्वासन पर उन्होंने अपना आमरण अनशन खत्म किया था। लेकिन अभी तक कोई संतोषजनक कार्रवाई नही की गई।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here