ट्रैक्टर परेड में हिंसा भड़काने वाला सिंघु लौटा: किसानों के चक्काजाम से पहले एक लाख का इनामी लक्खा सिंघु बॉर्डर आया, बोला- पंजाब ही आंदोलन की अगुआई करे

37


  • Hindi News
  • National
  • Accused Lakha Sidhana Returned To Singhu Border, Said Punjab Should Lead The Movement

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली44 मिनट पहलेलेखक: तोषी शर्मा

  • कॉपी लिंक

एक लाख के इनामी आरोपी लक्खा सिधाना को ढूंढने का दावा पुलिस कर रही है, लेकिन वह दिल्ली में सिंघु बॉर्डर पर शुक्रवार शाम पहुंचा और सोशल मीडिया पर लाइव भी किया।

गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड में हिंसा भड़काने का आरोपी लक्खा सिधाना किसानों के देशव्यापी चक्काजाम से पहले पंजाब से दिल्ली वापस लौट आया। लक्खा ने शुक्रवार शाम सिंघु बॉर्डर से ही सोशल मीडिया पर लाइव किया। उसने कहा कि पंजाब को ही इस किसान आंदोलन की अगुआई करनी चाहिए। उसने किसान नेताओं से भी अपील की है कि किसी को भी 32 जत्थेबंदियों की कमेटी से बाहर ना किया जाए।

लक्खा सिधाना पर ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल किले पर तिरंगे के अपमान का भी आरोप है। लक्खा पर एक लाख रुपए का इनाम है।

दो किसान नेताओं को कमेटी से हटाने पर ऐतराज जताया

लक्खा ने लाइव के दौरान कहा, ‘पता चला है कि सुरजीत सिंह फूल और एक अन्य किसान नेता को कमेटी से बाहर कर दिया गया है। जो गलत है। सरकार से बातचीत होने पर सभी को एक साथ जाना है। कमेटी को छोटा नहीं करना है। अभी एक रहने का समय है। एक साथ रहकर लड़ने की जरूरत है। आपसी गिले-शिकवे बाद में सुलझाते रहेंगे। अभी ऐसी कोई गलती नहीं करनी है जिससे आंदोलन टूट जाए। ये पंजाब के अस्तित्व और आने वाली नस्लों की लड़ाई है। अगर इस बार हार गए तो पंजाब सदियों पीछे चला जाएगा।’

सोशल मीडिया पर एक्टिव होकर पुलिस को कर रहा चैलेंज

पुलिस लगातार आरोपी लक्खा सिधाना को ढूंढने का दावा कर रही है, लेकिन वह बार-बार सोशल मीडिया पर एक्टिव होकर पुलिस को चैलेंज कर रहा है। उसने दो दिन पहले पंजाब में एक गुरुद्वारे से भी वीडियो जारी किया था। इसमें उसने कहा था कि वो दिल्ली से पंजाब आया है। वीडियो में उसने अपील की है कि 6 फरवरी को हर घर से लोग बड़ी संख्या में पंजाब की सड़कों पर उतरें और अपनी ताकत दिखाएं।

आंदोलन के मंच पर राजनेताओं को जगह ना देने की सलाह

लक्खा ने गाजीपुर बॉर्डर का उदाहरण देते हुए कहा कि जिस तरह वहां किसान आंदोलन का मंच राजनेताओं का ठिकाना बनता जा रहा है। वह गलत है। सिंघु और टीकरी बॉर्डर पर इस तरह से किसी भी राजनीतिक दल के नेताओं को एंट्री न दें।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here